Automobile

भारतीय क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज Giottus पर 43 नए टोकन जोड़े गए, अब 300 क्रिप्टो पर कर सकते हैं ट्रेडिंग!

भारत में बेस्ड एक क्रिप्टो एक्सचेंज, Giottus ने ट्रेडिंग के लिए अपने प्लेटफॉर्म पर लिस्ट हुई क्रिप्टोकरेंसी की संख्या बढ़ाई है। डिसेंट्रलाइज्ड फाइनेंस (DeFi) प्रोटोकॉल, रियल वर्ल्ड एसेट (RWA), आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) और मीमीकॉइन से संबंधित क्रिप्टोकरेंसी ने गियोटस की लिस्ट में एंट्री ली है। कंपनी का दावा है कि एक्सचेंज दस लाख से अधिक यूजर्स को सर्विस देता है और इन नए टोकन को यूजर्स के अनुरोधों के बाद जोड़ा गया है।

WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.57 PM (1)
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.58 PM
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.57 PM
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.58 PM (1)
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.56 PM
previous arrow
next arrow

भारतीय क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज Giottus पर 43 नए टोकन जोड़े गए, अब 300 क्रिप्टो पर कर सकते हैं ट्रेडिंग!

Gadgets360 के साथ शेयर किए गए एक स्टेटमेंट में, गियोटस ने दावा किया है कि कंपनी ने लिस्ट में जोड़े गए हरेक नए टोकन का विश्लेषण किया है। एक्सचेंज के अनुसार, एसेट की क्वालिटी, विश्वसनीयता, फंडामेंटल्स और मार्केट परफॉर्मेंस के इतिहास को अच्छे से जांचा गया है।

कंपनी ने अपने बयान में कहा “नए टोकन की लिस्ट हमारे ग्राहकों की महत्वपूर्ण मांग से प्रेरित है, खासकर चल रहे बुल मार्केट को देखते हुए। लिस्टिंग के लिए चुने गए टोकन एक कठोर जांच प्रक्रिया से गुजरे हैं, जिसमें एसेट की क्वालिटी, विश्वसनीयता, एसेट के फंडामेंटल्स और मार्केट परफॉर्मेंस जैसे पहलुओं का मूल्यांकन किया गया है।

Read more : ब्रेकिंग: मुख्यमंत्री को मिली जमानत, 1 लाख की जमानत राशि पर मिली राहत

अभी तक, भारत सरकार ने टोकन लिस्टिंग पर अपनी खुद की रूल बुक जारी नहीं की है, लेकिन एक्सचेंजों को सभी ग्राहकों की KYC औपचारिकताओं को पूरा करने और आंतरिक रूप से पहचानी गई किसी भी संदिग्ध एक्टिविटी को रिपोर्ट करने का निर्देश दिया गया है।

भारतीय क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज Giottus पर 43 नए टोकन जोड़े गए, अब 300 क्रिप्टो पर कर सकते हैं ट्रेडिंग!

गियोटस का दावा है कि उसने भारत की फाइनेंशियल इंटेलिजेंस यूनिट (FIU) के साथ रजिस्ट्रेशन कराया है – जिसे हाल ही में केंद्र सरकार द्वारा यह सुनिश्चित करने के लिए बनाया गया था कि कोई भी कंपनी अवैध रूप से भारतीयों को अस्थिर और वित्तीय रूप से जोखिम भरे क्रिप्टो स्पेस में फंसा नहीं रही हो।

Back to top button