पॉलिटिकलहेडलाइन

CG POLITICS : क्या शिक्षा मंत्री के पद से बृजमोहन अग्रवाल आज देंगे इस्तीफा ? पक्ष-विपक्ष और ब्यूरोक्रेसी की टिकी निगाहे, कल ले सकते हैं पीसी

रायपुर 19 जून 2024। मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय की अध्यक्षता में आज दोपहर कैबिनेट की बैठक होगी। आचार संहिता खत्म होने के बाद साय कैबिनेट की ये पहली बैठक है। ऐसे में बड़े फैसलों को लेकर जहां कैबिनेट की इस बैठक पर सबकी नजर होगी। वहीं कैबिनेट की इस बैठक में शिक्षा मंत्री बृजमोहन अग्रवाल के इस्तीफे पर भी सबकी निगाहे टिकी हुई है। कयास लगाये जा रहे है कि आज बृजमोहन अग्रवाल कैबिनेट की बैठक के दौरान मंत्री पद से इस्तीफा दे सकते है। लिहाजा आज के कैबिनेट की बैठक पर पक्ष-विपक्ष के साथ ही ब्यूरोक्रेसी की निगाहे टिकी हुई है।

WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.57 PM (1)
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.58 PM
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.57 PM
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.58 PM (1)
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.56 PM
previous arrow
next arrow

बीजेपी के कद्दावर नेता बृजमोहन अग्रवाल इन दिनों काफी सुर्खियों में हैं। पहले तो विधानसभा के बाद लोकसभा में रिकार्ड मतों से जीत को लेकर बृजमोहन अग्रवाल सुर्खियों में आये। इसके बाद अब मौजूदा शिक्षा मंत्री के पद को लेकर बृजमोहन सुर्खियों में है। दरअसल लोकसभा चुनाव में जीत के बाद बृजमोहन लगातार क्षेत्र की जनता के बीच पहुंचकर आभार जता रहे है। इसी आभार कार्यक्रम के दौरान मीडिया में पिछले दिनों उनके एक बयान ने राजनीतिक सरगर्मी बढ़ा दी। दरअसल शिक्षा मंत्री के पद से इस्तीफे के सवाल पर बृजमोहन अग्रवाल ने सीएम के पाले में गेंद डालते हुए कह दिया था कि अगर मुख्यमंत्री चाहे, तो वो अगले 6 महीने तक मंत्री पद पर बने रह सकते है। बृजमोहन अग्रवाल के इस बयान पर भले ही मुख्यमंत्री ने अपनी कोई प्रतिक्रिया नही दी। लेकिन कांग्रेस ने इसे हाथों-हाथ लपक लिया और बीजेपी के साथ ही बृजमोहन अग्रवाल की घेराबंदी शुरू कर दी।

सियासी जानकार बताते है कि मीडिया में सुर्खी बने बृजमोहन अग्रवाल के इस बयान के बाद राजधानी रायपुर से लेकर दिल्ली तक हड़कंप मच गया। लिहाजा पार्टी के बड़े नेताओं को बृजमोहन अग्रवाल का ये बयान रास नही आया। सोमवार को विधानसभा सदस्य के पद से इस्तीफा देने के बाद अब मंत्री पद से इस्तीफे को लेकर एक बार फिर चर्चाओं और बयानबाजी का दौर जारी है। ऐेसे में अब उम्मींद जतायी जा रही है कि बृजमोहन अग्रवाल के लिए साय सरकार की ये कैबिनेट बैठक आखिरी हो। कैबिनेट की बैठक में बृजमोहन अग्रवाल अपना इस्तीफा दे सकते है। ऐसे में बीजेपी के कद्दावर नेता बृजमोहन अग्रवाल के इस बड़े फैसले पर बीजेपी-कांग्रेस के साथ ही पूरे ब्यूरोक्रेसी की निगाहे टिकी हुई है। सूत्रों की माने तो कैबिनेट की बैठक में अगर बृजमोहन अग्रवाल अपना इस्तीफा देते है, तो दूसरे दिन गुरूवार को प्रेस कांफ्रेंस लेकर मीडिया से सीधा संवाद कर सकते है।

 

Back to top button