हेल्थ / लाइफस्टाइल

गैस का दर्द या हार्ट अटैक, जानिए गैस में होने वाला दर्द और हार्ट अटैक के बीच क्या होता है अंतर?

बहुत बार ऐसा होता है की तेजी से सीने में दर्द और बैचेनी होने को गैस की समस्या समझने की भूल पेशेंट कर लेते हैं और दर्द को नजर अंदाज कर देते हैं। जबकि ये हार्ट अटैक ( Heart Attack) के शुरुआती लक्षण भी हो सकते हैं।
इस तरह की लापरवाही के कारण पेशेंट की जान भी कई बार चली जाती है। इसलिए गैस में होने वाला दर्द और हार्ट अटैक का दर्द समझना बहुत ही ज्यादा जरूरी है। इसलिए जानिए की इस बारे में क्या कहना है हेल्थ एक्सपर्ट्स का?

WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.57 PM (1)
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.58 PM
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.57 PM
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.58 PM (1)
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.56 PM
previous arrow
next arrow

गैस का दर्द या हार्ट अटैक, जानिए गैस में होने वाला दर्द और हार्ट अटैक के बीच क्या होता है अंतर?

समझिए की गैस में होने वाला दर्द और हार्ट अटैक के बीच क्या होता है अंतर?

हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार मानें तो, गैस में होने वाला दर्द आमतौर पर छाती के नीचे वाले हिस्से या पेट में होता है। गैस के दर्द की संभावना ये ज्यादा होती है की ये और बॉडी पार्ट्स तक नहीं फैलता है। गैस की वजह से होने वाले दर्द में मितली आना, जी मिचलाना जैसी समस्याएं होती हैं। यदि घरेलू उपचार करके और ज्यादा प्रॉब्लम होने पर डॉक्टर को दिखा कर आराम पाया जा सकता है।

read more: Bajaj Platina हैं बाईकों का ‘माइलेज किंग’, आज ही 25 हजार में खरीदें बाइक

वहीं, जो दर्द हार्ट अटैक ( Heart Attack) में होता है वो आमतौर पर छाती के बीचों बीच होता है। और ये दर्द बढ़ते बढ़ते दोनों हांथ, पीठ और जबड़े तक फैल जाता है। इसके अलावा हार्ट अटैक के अन्य लक्षण हैं तेजी से पसीना आना, बार बार चक्कर आना, बैठे बैठे ही सांस फूल जाना जैसे लक्षण हार्ट अटैक के समय दिखाई दे सकते हैं।

अगर अचानक से सीने में दर्द उठे तो क्या करें?

सीने में दर्द उठने पर घरेलू उपाय अपनाने की जगह पर सीधे हॉस्पिटल जाएं। वहां तुरंत ही ईसीजी लगा के पता चल सकता है की ये गैस का दर्द है या हार्ट अटैक का लक्षण हैं।
बीमारी का पता घर में लगाने से अच्छा है की डॉक्टर या स्पेशियलिस्ट से जांच करवाएं। आधे लोगों की जान इसलिए भी चली जाती है क्योंकि उन्हें पता नहीं चल पाता है या वो हल्के में ले लेते हैं। इसलिए इस तरह के लक्षणों को बिल्कुल अनदेखा न करें।

 

Back to top button