हेडलाइन

IPS Promotion: IPS अरूणदेव गौतम व हिमांशु गुप्ता के डीजी प्रमोशन को हरी झंडी, जल्द जारी हो सकता है आदेश

रायपुर 29 जून 2024। अरूणदेव गौतम या हिमांशु गुप्ता में से कोई छत्तीसगढ़ के डीजीपी बन सकता है? डीपीसी ने IPS अरूणदेव गौतम और हिमांशु गुप्ता के ADG से DG प्रमोशन पर मुहर लगा ही। जानकारी है कि जल्द ही दोनों के प्रमोशन (DG promotion)  का आर्डर जारी हो जायेगा। इसके साथ ही सरकार के पास नये डीजीपी के चुनने का विकल्प भी सामने आ जायेगा। IPS अरूणदेव गौतम (IPS Arundev Gautam) 1992 बैच के अफसर हैं, जबकि हिमांशु गुप्ता (IPS Himanshu Gupta)  1994 बैच के अफसर हैं।

WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.57 PM (1)
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.58 PM
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.57 PM
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.58 PM (1)
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.56 PM
previous arrow
next arrow

Read Also:-दो कांस्टेबल सस्पेंड: स्पा सेंटर व तस्करों से उगाही करने वाले दो सिपाही निपटे, एसपी ने सस्पेंशन आर्डर किया जारी

1992 बैच के ही एक और अफसर पवन देव (IPS Pawan Dev) के भी प्रमोशन की फाइल DPC के लिए पहुंची थी, लेकिन DE पेंडिंग रहने की वजह से पवन का प्रमोशन क्लियर नहीं हुआ है। हालांकि उनका प्रमोशन अभी खारिज नहीं हुआ है, बल्कि वेट एंड वाच में रखा गया है। दरअसल छत्तीसगढ़ में डीजी के दो रेगुलर व दो एक्स कैडर पोस्ट हैं।

Read Also :-IAS NEWS: चीफ सिकरेट्री अमिताभ जैन को मिला एडिश्नल चार्ज, राज्य नीति आयोग के उपाध्यक्ष बने

यानि छत्तीसगढ़ में डीजी चार अफसर बन सकते हैं। डीजी के चार पोस्ट के विरुद्ध अभी सिर्फ डीजीपी अशोक जुनेजा (Ashok Juneja) ही पोस्टेड हैं। अशोक जुनेजा 1989 बैच के अफसर हैं। उनके बाद 1990 बैच के राजेश मिश्रा (IPS Rajesh Mishra) थे, जो जनवरी में रिटायर हो गये। उसके बाद 1992 बैच के अरुणदेव गौतम और पवन देव का नंबर है। लेकिन पवन देव के खिलाफ चल रही जांच ने उनके लिए रोड़ा अटका दिया है। अरूणदेव गौतम के डीजी प्रमोशन को डीपीसी ने ओके कर दिया है। वहीं उसके बाद 1994 बैच में सबसे सीनियर हिमांशु गुप्ता भी अब एडीजी से डीजी बन गये हैं।

Read Also :-2 जवान सस्पेंड: एसपी अंकिता शर्मा की सख्त कार्रवाई, पैसे लेने मामले में दो पुलिसकर्मियों की कर दी छुट्टी

अरूणदेव गौतम या हिमांशु गुप्ता ?

डीजीपी अशोक जुनेजा अगस्त में रिटायर हो रहे हैं। जाहिर है उससे पहले सरकार को डीजीपी की तलाश शुरू करनी होगी। अब जबकि अरूणदेव गौतम और हिमांशु गुप्ता डीजी प्रमोट हो गये हैं, तो नजरें इन्हीं दोनों अफसर पर टिकी है। हालांकि चर्चाएं हिमांशु गुप्ता के नाम की ज्यादा चल रही है। लेकिन सीनियरिटी की बात करें तो अरूणदेव गौतम 1992 बैच के हैं, जबकि हिमांशु गुप्ता 1994 बैच के हैं। लेकिन डीजीपी और चीफ सिकरेट्री बनाने में सुपरसीड करने की परंपरा काफी पुरानी रही है। जाहिर है, अटकलों और कयासों पर तभी विराम लगेगा, जब डीजीपी का आर्डर जारी होगा।

 

Back to top button