हेडलाइन

तो क्या बृजमोहन अग्रवाल की ये आखिरी कैबिनेट होगी ? कैबिनेट से ठीक पहले बृजमोहन ने अफसरों के साथ किया…..!

क्या बृजमोहन अग्रवाल कल कैबिनेट की बैठक में ही मंत्री पद से अपना इस्तीफा दे देंगे ? ये सवाल इसलिए क्योंकि कैबिनेट की बैठक से ठीक पहले बृजमोहन अग्रवाल ने आज शिक्षा विभाग के अफसरों के साथ बैठक लेकर कई अहम मुद्दो पर चर्चा की।

रायपुर 18 जून 2024। बीजेपी के कद्दावर नेता बृजमोहन अग्रवाल ने एक दिन पहले ही विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। विधायक के पद से इस्तीफे के बाद एक बार फिर अब शिक्षा मंत्री के पद से इस्तीफे को लेकर सुगबुगाहट तेज हो गयी है। कल 19 जून को मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय कैबिनेट की बैठक लेने वाले है। ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यहीं है कि क्या बृजमोहन अग्रवाल का ये आखिरी कैबिनेट होगा ? क्या बृजमोहन अग्रवाल कल कैबिनेट की बैठक में ही मंत्री पद से अपना इस्तीफा दे देंगे ? ये सवाल इसलिए क्योंकि कैबिनेट की बैठक से ठीक पहले बृजमोहन अग्रवाल ने आज शिक्षा विभाग के अफसरों के साथ बैठक लेकर कई अहम मुद्दो पर चर्चा की गयी।

WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.57 PM (1)
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.58 PM
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.57 PM
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.58 PM (1)
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.56 PM
previous arrow
next arrow

रायपुर लोकसभा सीट से रिकार्ड मतों से जीत दर्ज करने वाले शिक्षा मंत्री बृजमोहन अग्रवाल अब सांसद बन गये है। दिल्ली की राजनीति की ओर अग्रसर हो रहे बृजमोहन अग्रवाल ने सोमवार को भारी मन के साथ विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा तो दे दिया, लेकिन मंत्री पद पर अब भी वे बने हुए है। यहीं वजह है कि शिक्षा मंत्री के पद से बृजमोहन अग्रवाल के इस्तीफे को लेकर दिये बयान के बाद विपक्ष जहां हमलावर बना हुआ है। वहीं मंत्री पद से इस्तीफे के मुद्दे की गेंद मुख्यमंत्री साय के पाले में डाले जाने के बाद सूबे की राजनीति और गरमा गयी है।

ऐसे में बृजमोहन अग्रवाल से इस्तीफा लेने को लेकर मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय जहां शांत नजर आ रहे है, वही चर्चा ये भी है कि बीजेपी के बड़े नेताओं ने इस पूरे मुद्दे पर बृजमोहन से बात की है। हालांकि इन सबसे इतर बृजमोहन अग्रवाल ने शिक्षा सत्र प्रारंभ होने से ठीक पहले आज शिक्षा विभाग के अफसरों की बैठक ली गयी। बताया जा रहा है कि इस बैठक में कई अहम मुद्दों के साथ ही कई विवादित मुद्दों पर भी चर्चा की गयी। शिक्षामंत्री की इस बैठक के बाद एक बार फिर चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है कि क्या मंत्रीजी अपने पद पर अगले 6 महीने तक बने रहेंगे ? या फिर 19 जून को होने वाली कैबिनेट की बैठक में शिक्षा मंत्री के पद से इस्तीफा दे देंगे ?

राजनीतिक गलियारों के साथ ही ब्यूराक्रेंसी में भी इस मुद्दे को लेकर चर्चा गर्म है। ऐसे में कयास लगाये जा रहे है कि आज की बैठक के बाद यदि मंत्रीजी की पेंडिंग फाइलों पर मुख्यमंत्री साइन कर देते है, तो 19 जून की कैबिनेट की बैठक बृजमोहन अग्रवाल की आखिरी कैबिनेट हो सकती है। उम्मींद तो ये भी जतायी जा रही है कि दिल्ली से प्रेशर बढ़ने पर बृजमोहन अग्रवाल कैबिनेट की बैठक से पहले भी मंत्री पद से इस्तीफा दे सकते है। ऐसे में अब ये देखने वाली बात होगी कि मंत्री पद को लेकर सूबे में गरमायी राजनीति पर कल 19 जून को पूर्ण विराम लग जाता है, या फिर ये खींचतान आगे और लंबा खींचता है, ये तो आने वाला वक्त ही बतायेगा।

Back to top button