Business

इन गैस सिलेंडर उपभोक्ताओं को लगने वाला बड़ा सदमा, जाने पूरी जानकारी

नई दिल्लीः केंद्र सरकार की तरफ से एलपीजी सिलेंडर पर बंपर सब्सिडी प्रदान की जा रही है, जिसका बड़ी संख्या में लोग फायदा उठा रहे हैं। अगर आप एलपीजी सिलेंडर पर सब्सिडी का लाभ लगातार लेना चाहते हैं तो जरूरी नियमों को फॉलो करना होगा। इसके नहीं होने पर ग्राहकों को तगड़ा झटका लगना तय माना जा रहा है। वैसे तो एलपीजी सिलेंडर पर अब केंद्र सरकार की ओर से 300 रुपये की सब्सिडी प्रदान की जा रही है।

इन गैस सिलेंडर उपभोक्ताओं को लगने वाला बड़ा सदमा, जाने पूरी जानकारी

इसका फायदा उसी शख्स को मिल रहा है जिसका नाम पीएम उज्जवला योजना से जुड़ा है। आपका कनेक्शन भी पीएम उज्जवला योजना के तहत हुआ है तो फिर जरूरी नियमों का पालन करें, नहीं तो फिर दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा, जो किसी बड़े झटके की तरह होगा। आप सोच रहे होंगे कि जरूरी काम क्या कराना होगा, जिसे नीचे जान सकते हैं।

ग्राहक जल्द कराएं यह काम
पीएम उज्जवला योजना के अनुसार, गैस सिलेंडर पर 300 रुपये की सब्सिडी का फायदा उठा रहे हैं तो फिर जरूरी बातों को समझना होगा, जिससे किसी तरह की परेशानी नहीं होगी। गैस कंपनी संचालकों ने अब एलपीजी सिलेंडर ग्राहकों के लिए जल्द ही ई-केवाईसी कराने का काम जरूरी कर दिया है।

इस काम के लिए जरूरी दिशा-निर्देश भी जारी किए गए हैं, जिसका पालन करना होगा। अगर आपने तनिक भी अनदेखी की तो फिर दिक्कतों का सामना करना पडे़गा, जिसे जानना बहुत ही आवश्यक है।

Read more : मुफ्त राशन पाने वालों को लगा बड़ा झटका, सरकार करेगी कार्रवाई, जानें डिटेल

अगर आप ई-केवाईसी का काम नहीं करवाते हैं तो इसकी रीफिलिंग रोक दी जाएगी। इस संबंध में उपभोक्ताओं को एमएमएस से अलर्ट के मैसेज के जरिए जानकारी भी दी जा रही है। आप ई-केवाईसी का काम करवा लें जिससे किसी तरह की परेशानी नहीं होगी

जानिए किन ग्राहकों को भुगतना पड़ेगा नुकसान
तेल विपणन कंपनियों की तरफ से लंबे समय से सर्वे नहीं होने से कई गैस ग्राहकों को सब्सिडी मिलने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इसमें कुछ मृतकों के नाम भी सूची से नहीं हटाने का निर्णय लिया गया है। कंपनियों का मुख्य उद्देश्य बोगस उपभोक्ताओं को सूची से हटाना समझा जा रहा है।

इन गैस सिलेंडर उपभोक्ताओं को लगने वाला बड़ा सदमा, जाने पूरी जानकारी

इसमें पांच से अधिक फीसदी ग्राहकों पर गाज गिरने की उम्मीद मानी जा रही है। घरेलू और वाणिज्यिक उपभोक्ताओं को चिह्नित करने का काम किया जा सके। इसके साथ ही जिन लोगों की मृत्यु हो गई है, उनके नाम हटाकर उत्तराधिकारी को कनेक्शन दिया जाएगा।

Back to top button