हेडलाइनशिक्षक/कर्मचारी

“शिक्षकों को गर्मी की छुट्टी से बाहर रखना अमानवीय” सहायक शिक्षक फेडरेशन ने की संशोधित आदेश जारी करने की मांग, मनीष मिश्रा बोले…

रायपुर 22 अप्रैल 2024। प्रदेश में भीषण गरमी की वजह से स्कूलों में ग्रीष्मकालीन अवकाश शुरू हो गया है। स्कूल शिक्षा विभाग ने रविवार को इस संदर्भ में आदेश जारी कर दिया। अब 15 जून तक स्कूलों में अवकाश रहेगा। स्कूली बच्चों को तो छुट्टी दे दी गयी है, लेकिन शिक्षकों को अवकाश नहीं रहेगा। शिक्षा विभाग के स्पष्ट आदेश के बाद अब शिक्षक संगठनों का गुस्सा फूट पड़ा है।

WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.57 PM (1)
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.58 PM
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.57 PM
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.58 PM (1)
WhatsApp Image 2024-07-06 at 2.31.56 PM
previous arrow
next arrow

सहायक शिक्षक समग्र शिक्षक फेडरेशन ने विभागॉ के इस फरमान का तीखा विरोध जताया है। प्रदेश अध्यक्ष मनीष मिश्रा ने कहा है कि इस तरह का आदेश नैसर्गिक न्याय के सिद्धांत के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि शिक्षक स्कूल में पढ़ाने जाते हैं, लेकिन अगर स्कूल में बच्चे ही नहीं हैं, तो फिर शिक्षकों के स्कूल जाने का औचित्य क्या है। शिक्षकों के प्रति विभाग की ऐसी दुर्भावना समझ से परे हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में अभी तापमान 40 से उपर चल रहा है। शिक्षक बिना किसी काम की वजह से स्कूल आयेंगे और फिर बैठकर चले जायेंगे, तो इससे क्या फायदा होगा। मनीष मिश्रा ने कहा कि साफ है कि विभाग का ये आदेश सिर्फ और सिर्फ शिक्षकों को परेशान करने के लिए जारी किया गया है। मनीष मिश्रा ने कहा कि विभाग को इस आदेश को वापस लेना चाहिये और तत्काल संशोधित आदेश जारी करन चाहिये। मनीष मिश्रा ने कहा है कि ..

शिक्षकों को परेशान करने वाले आदेशों से शिक्षा विभाग को बाज आना चाहिये। हाल के सालों में शिक्षकों के हितों से खिलवाड़ करने का प्रचलन बढ़ा है। विभाग से अनुरोध हैकि वो शिक्षकों की मनोदशा को समझें और गरमी की छुट्टी शिक्षकों के लिए भी लागू करने पर फैसला करें

 

 

Back to top button